Home Tips and Tricks How to avoid virus from free software download – Tips in Hindi

How to avoid virus from free software download – Tips in Hindi

How to avoid virus from free software download - Tips in Hindi

Virus, Spyware और Adware Software के निर्माता उपभोक्ताओं के Free Download  के लालच का फायदा उठाने से नहीं चूकते। ऐसे Download  के पीछे कई बार Virus मौजूद होते हैं, जिसके बारे में विस्तार से बता रहे है — बालेन्दु शर्मा दाधीच

Virus, Spyware और Adware Software के निर्माता उपभोक्ताओं के Free Download  के लालच का फायदा उठाने से नहीं चूकते। Internet से किसी Software (या Virus) के स्वत: आपके Computer में इस्तेमाल होने के आसार बहुत कम होते हैं। क्योंकि Internet Browser किसी Download या Installation से पहले आपकी अनुमति मांगता है। Windows भी Installation के समय ऐसा ही करता है। लेकिन यदि आप एक बार कोई Software Download कर बाकायदा Install कर लें तो आप आगे के लिए उसकी हर गतिविधि को अपनी परोक्ष स्वीकृति दे देते हैं। अगर वह अच्छे के भेस में Harmful Software हुआ तो समझिए कि लेने के देने पड़ गए।

ऐसा खूब हो रहा है। Virus निर्माता किसी अच्छी Utilities (जैसे आकर्षक Screen Sever, Free Antivirus, Free Voice Chat  Software आदि) के नाम से आपको लुभाते हैं और जब आप वह Software Download कर Install करते हैं तो उसके पीछे मौजूद दिशानिदेर्शों पर आपकी जानकारी के बिना ही अमल शुरू हो जाता है। ऐसे Harmful Software अन्य Danger Software, Virus आदि को भी Download कर सकते हैं। कई बार जिस मासूम से Software को आपने Download किया, वह तो प्रत्यक्ष में तो छोटा सा काम करता है (जैसे कोई Analog Clock या सुइयों वाली आकर्षक घड़ी जो समय बताती रहती है), लेकिन पीछे ही पीछे वह बहुत ताकतवर Virus  Program से लैस होता है जो आपकी निगाह में आए बिना आपके Computer  का Control किसी Cyber अपराधी के हाथ में दे सकता है। कहा जाता है कि एक हानिकारक Software के साथ पांच अन्य हानिकारक Software आपके Computer में आ पहुंचते हैं, बिना आपकी जानकारी के।

कुछ मुफ्त Download किए गए Shareware Software ट्रोजन होर्स से भी लैस होते हैं। Shareware वे Software हैं जिन्हें एक निर्धारित अवधि तक तो Free Use किया जा सकता है लेकिन उसके बाद इस्तेमाल करने के लिए उन्हें खरीदना जरूरी होता है। अन्यथा वे Expire हो जाते हैं। ऐसे कुछ Software, विशेषकर AntiVirus , अपनी अवधि पूरी होने के बाद खुद ही Computer में Virus  छोड़ देते हैं। ऐसा भी होता है कि जिन Virus को उन्होंने अपने Active Time में पकड़कर चेस्ट (Hard Disk पर Virtually सुरक्षित किया गया Area) में डाल चुके हों, वे उनके निष्क्रिय होते ही फिर आ धमकें।

Video, Audio और E-Books के अंधाधुंध Download से पहले यह भी देखना जरूरी है कि आप किसी कंपनी के Copyright का उल्लंघन न कर रहे हों। Movie, Songs आदि की privacy  में Internet  की बहुत बड़ी भूमिका है और ऐसी सामग्री को Download करना अवैध है। वह आपको किसी बड़े कानूनी झंझट में भी फंसा सकती है। आजकल Torrents  नामक Software के जरिए Internet  पर बड़े पैमाने पर Download का गोरखधंधा चल रहा है। फरवरी 2009 के आंकड़ों के अनुसार Internet  पर 43 फीसदी Data Transfer Torrent के जरिए हो रहा है। ये Software Pear to Pear Network के जरिए (एक User से दूसरे User के Computer को सीधे जोड़कर), तेज गति से सामग्री Download करने में सक्षम हैं। इनका इस्तेमाल करते समय यह देख लेना जरूरी है कि Download की जाने वाली सामग्री वैध है या नहीं।

ऐसा नहीं है कि Internet  से Free Download होने वाली सारी सामग्री असुरक्षित ही हो। बहुत सी कंपनियां अपने Software या Content का प्रचार करने या Testing के लिए उसे Freeware, Shareware या Beta Version के रूप में जारी करती हैं। उनके लिए यह प्रचार या Branding का प्रभावी तरीका हो सकता है। कुछ उभरते हुए कलाकार, Software निर्माता आदि भी चर्चा में आने के लिए Free सामग्री देते हैं। फिर दुनिया में Open Source Software के रूप में एक अलग आंदोलन चल रहा है जिसका उद्देश्य स्तरीय Software उत्पादों को Free लोगों तक पहुंचाना है। अनेक Movies का Songs, Video आदि भी प्रचार के लिए Free जारी किया जाता है और लाखों Amateur कलाकार Youtube जैसी Website पर अपनी सामग्री उपलब्ध कराते हैं। लेकिन ऐसे लोगों की भी कमी नहीं जो जायज कंपनियों की साख का फायदा अपने नकारात्मक उद्देश्यों के लिए उठाते हैं।

Download करने या न करने का निर्णय आपको करना है। लेकिन इस प्रक्रिया में सतर्कता और सावधानी भी शामिल हो तो आपका इंटरनेटीय अनुभव सुखद बना रहेगा।

ये पोस्ट आपको कैसा लगा, हमें कमेंट कर के बताये ! यदि आपको कंप्यूटर या टेक्नोलॉजी से समन्धित कोई Question  पूछना है तो हमें मेल करे ! हमारी Mail-ID है:-  techtipshindi@gmail.com.

Leave a Reply

Your email address will not be published.