कोरोना काल में आयुर्वेदिक प्रोडक्ट्स की मांग बढ़ी, 50 हजार रुपये लगाकर हर महीने कमाएं मोटा मुनाफा


50 हजार रुपये लगाकर हम महीने कमाएं मोटा मुनाफा

50 हजार रुपये लगाकर हम महीने कमाएं मोटा मुनाफा

Business Opportunity: अगर आपके पास 50 हजार रुपये हैं तो आप आयुर्वेदिक वटी गुटिका प्लांट लगाकर कमाई कर सकते हैं. इसकी यूनिट लगाने के लिए सरकार प्रधानमंत्री इम्‍प्‍लॉयमेंट जनरेशन प्रोग्राम (PMEGP) के तहत 90 फीसदी तक लोन और 25 फीसदी तक सब्सिडी दे रही है.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    August 21, 2020, 10:08 AM IST

नई दिल्ली. कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के चलते देश में आयुर्वेदिक प्रोडक्ट्स की मांग काफी बढ़ गई है. कोरोना के खिलाफ इम्युनिटी पावर बढ़ाने वाले कई आयुर्वेदिक प्रोडक्ट्स बाजार में आ गए हैं. कोरोना काल में आयुर्वेदिक प्रोडक्ट्स के डिमांड बढ़ने से इस क्षेत्र में कमाई के भी अवसर बने हैं. आयुर्वेदिक प्रोडक्‍ट्स में वटी गुटिका की डिमांड काफी अधिक है. लगभग हर आयुर्वेदिक कंपनी वटी गुटिका बनाकर बेच रही है. वटी या गुटिका के नाम से जाने जानी वाली यह आयुर्वेदिक दवा कई तरह की बीमारियों में काम आती है. अगर आपके पास 50 हजार रुपये हैं तो आप आयुर्वेदिक वटी गुटिका प्लांट लगाकर कमाई कर सकते हैं. इसकी यूनिट लगाने के लिए सरकार प्रधानमंत्री इम्‍प्‍लॉयमेंट जनरेशन प्रोग्राम (PMEGP) के तहत 90 फीसदी तक लोन और 25 फीसदी तक सब्सिडी दे रही है. खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग (KVIC) ने वटी गुटिका की मैन्युफैक्चरिंग प्लांट लगाने पर एक रिपोर्ट तैयार की है. इसकी प्रोजेक्‍ट कॉस्‍ट लगभग 5 लाख रुपये है और प्रधानमंत्री इम्‍प्‍लॉयमेंट जनेरशन प्रोग्राम के तहत अगर आप लोन के लिए अप्‍लाई करते हैं तो आपके पास 50 हजार रुपये होने चाहिए, बाकी 90 फीसदी आपको लोन मिल जाएगा. यह भी पढ़ें- जेब में नहीं है डेबिट कार्ड तो भी निकाल सकते हैं SBI ATM से कैश, ये रहा प्रोसेस कितना आएगा खर्चKVIC की प्रोजेक्ट रिपोर्ट के मुताबिक, आपके प्रोजेक्‍ट की कॉस्‍ट लगभग 5.06 लाख रुपये आएगी, जिसमें मशीनरी-इक्विपमेंट, वर्किंग कैपिटल, वर्कशॉप का किराया आदि शामिल है. इस कॉस्‍ट में आप साल भर में लगभग 20 हजार वटी गुटिका तैयार करेंगे. बिल्डिंग का किराया 2 लाख रुपये सालाना, इक्‍विपमेंट पर 2.10 लाख रुपये, वर्किंग कैपिटल के लिए 96 हजार रुपये, रॉ मैटिरियल खर्च 3.35 लाख रुपये, लेबल पैकेजिंग पर 25 हजार रुपये, सैलरी 4.25 लाख रुपये, एडमिनिस्‍ट्रेटिव खर्च 1.50 लाख रुपये, ओवरहेड 1.50 लाख रुपये, विविध खर्च 10 हजार रुपये, लोन का ब्‍याज 66 हजार रुपये. कुल वर्किंग कैपिटल की जरूरत (सालाना) 4.18 लाख रुपये होगी. वेरिएबल कॉस्‍ट 7.38 लाख रुपये और वर्किंग कैपटिल तिमाही 96 हजार रुपये होगी. कितनी होगी कमाई
प्रोजेक्‍ट रिपोर्ट में आपको बताना होगा कि आपको सालाना कितना फायदा होगा. जैसे फिक्‍सड कॉस्‍ट और वेरिएबल कॉस्‍ट से आपका कॉस्‍ट ऑफ प्रोडक्शन 11.54 लाख रुपये होगा. आपने 20 हजार वटी या गुटिका बनाने का लक्ष्य रखा है और आप इसे अगर 75 रुपये प्रति पीस बेचते हैं तो आपकी कुल सालाना बिक्री 15 लाख रुपये होगी. आपको लगभग 3.45 लाख रुपये का प्रॉफिट हो सकता है. यानी हर महीने करीब 30 हजार रुपये की कमाई हो सकती है. यह भी पढ़ें- सिर्फ 5 रुपये में खरीदें सोना, Amazon Pay ने शुरू किया ‘Gold Vault’ लोन के लिए कैसे करें अप्लाई अगर आप इस प्रोजेक्‍ट के लिए लोन लेना चाहते हैं तो आप ऑनलाइन अप्‍लाई कर सकते हैं या अपने जिले के जिला उद्योग केंद्र या खादी विलेज इंडस्‍ट्रीज कमीशन के जिला कार्यालय में संपर्क कर सकते हैं.







Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *