Whatsapp posted Status story regarding new privacy policy


इंस्टैंट मैसेजिंग एप व्हॉट्सएप को प्राइवेसी पॉलिसी (Whatsapp Privacy Policy) में बदलाव को लेकर आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। दुनियाभर में इस बात को लेकर चिंता जताई जा रही है कि व्हॉट्सएप यूजर्स के डेटा को फेसबुक से साझा कर सकती है। ऐसे में व्हाट्सएप लगातार यूजर्स को यह समझाने में जुटी है कि नई पॉलिसी से यूजर्स के प्राइवेट डेटा को किसी प्रकार का खतरा नहीं है। कंपनी ने पहले सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स और फिर न्यूजपेपर्स में बड़ा विज्ञापन देकर अपनी बात रखी। अब कंपनी ने यूजर्स को प्राइवेसी नियम समझाने के लिए नया तरीका अपनाया है। 

Whatsapp ने पहली बार लगाया स्टेटस?
दरअसल व्हाट्सएप अपने Status फीचर के जरिए यूजर्स तक पहुंच रही है और प्राइवेसी नियमों को समझाने की कोशिश कर रही है। यह शायद पहली बार होगा जब व्हाट्सएप ने खुद कोई स्टेटस लगाया है। हालांकि अन्य स्टेट्स की तरह इनमें रिप्लाई का ऑप्शन नहीं दिया गया है। व्हाट्सएप ने कुल 4 स्लाइड की स्टोरी पोस्ट की है, जिसमें कहा गया है कि कंपनी यूजर्स के कॉन्टैक्ट या लोकेशन को फेसबुक के साथ शेयर नहीं करती और ना ही उनकी बातों को पढ़ या सुन सकती है। 

यह भी पढ़ें: पासवर्ड के चक्कर में फंस गए 1800 करोड़, बचे हैं आखिरी दो मौके

व्हाट्सएप स्टोरी की पहली स्लाइड में लिखा है, ‘हम आपकी प्राइवेसी को लेकर प्रतिबद्ध हैं।’ दूसरी स्लाइड में लिखा है, ‘व्हाट्सएप आपकी पर्सनल बातचीत पढ़ या सुन नहीं सकता, क्योंकि ये एंड टू एंड एनक्रिप्टेड हैं।’ वहीं, तीसरी स्लाइड में कहा गया है, ‘व्हाट्सएप आपकी शेयर की गई लोकेशन नहीं देख सकता।’ और आखिरी स्लाइड में दावा किया गया है कि, ‘व्हाट्सएप आपके कॉन्टैक्ट्स फेसबुक के साथ शेयर नहीं करता।’  

यह भी पढ़ें: Youtube में जल्द आ रहा नया फीचर, वीडियो में दिखने वाले Ads के जरिए को सीधे खरीद पाएंगे प्रोडक्ट

नई पॉलिसी लाने की तारीख बढ़ी
उधर व्हाट्सएप ने पॉलिसी में बदलाव (अपडेट) को 15 मई तक के लिए टाल दिया है। व्हॉट्सएप ने ब्लॉग पोस्ट में लिखा है कि यूजर्स के लिए पॉलिसी अपडेट की शर्तों पर अपनी मंजूरी देने की तारीख को आगे बढ़ाया जा रहा है। इससे पहले व्हाट्सएप ने 8 फरवरी 2021 को पॉलिसी मंजूर करने की आखिरी तारीख तय किया था। व्हॉट्सएप ने कहा, ‘हमारे हालिया अपडेट को लेकर काफी असमंजस है। काफी गलत सूचनाएं फैल रही है, जो चिंता की बात है।’ नई पॉलिसी के फैसले के बाद से ही बड़ी संख्या में यूजर्स टेलीग्राम और सिग्नल जैसे ऐप्स पर अकाउंट बना रहे हैं। 



Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *