facebook: Facebook भी हैरान, जब सैंकड़ों यूजर्स ने कंपनी की यह डिमांड, जानिए क्या है मामला – users demand more protection and privacy control and security from hacking says facebook


नई दिल्ली। कोरोना महामारी ने लोगों को घर पर कैद रहने पर मजबूर कर दिया है। भले ही कोई वर्क फ्रॉम होम कर रहा हो या फिर ऑनलाइन क्लासेज ले रहा हो, सोशल मीडिया के हर कोई कनेक्टेड है। कोरोना से पहले और आज के समय में सोशल मीडिया के इस्तेमाल में जमीन-आसमान का अंतर देखा जा रहा है। लोग पहले से ज्यादा ऑनलाइन रहने लगे हैं।

कोरोना महामारी के दौरान Messenger जैसी निजी मैसेजिंग ऐप्स का इस्तेमाल काफी बढ़ गया है। Facebook के अनुसार, यूजर्स हैकिंग और स्कैम्स से ज्यादा प्रोटेक्शन, प्राइवेसी कंट्रोल और अनवॉन्टेड इंट्रूजन्स से फ्री एक्सपीरियंस की मांग कर रहे हैं। कंपनी ने कहा कि इस साल Messenger और Instagram Direct के लिए डिफॉल्ट एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन में ज्यादा प्रोग्रेस होने की उम्मीद है। हालांकि, यह एक लॉन्ग-टर्म प्रोजेक्ट है। वर्ष 2022 से पहले यह पूरी तरह से एंड-टू-एंड एन्क्रिप्टेड नहीं होगा।

Whatsapp में आ रहा बड़े काम का फीचर, अब ऑडियो मैसेज भेजने से पहले खुद सुन सकेंगे

कौन-सा डाटा Facebook या अन्य मैसेजिंग ऐप द्वारा एक्सेस किया जा रहा है- यूजर्स
यूजर्स यह जानना चाहते हैं कि उनका डाटा किस तरह से इस्तेमाल किया जा रहा है और कौन-सा डाटा Facebook या अन्य मैसेजिंग ऐप द्वारा एक्सेस किया जा रहा है। कंपनी ने अपने अपने ब्लॉग पोस्ट में कहा है कि हमें अपने मैसेजिंग ऐप्स के अंदर यूजर्स को ज्यादा प्राइवेसी सेटिंग्स और फीचर्स देने के तरीकों पर विचार करना चाहिए। इसके लिए एक विचारशील उत्पाद डिजाइन और यूजर एडुकेशन की आवश्यकता है जिससे फीचर्स को खोजने में मदद मिल सकेगी। सिर्फ यही नहीं, यूजर्स अनवॉन्टेड इंट्रेक्शन को मैनेज करने के लिए कंट्रोल भी चाहते हैं।

काले-गोरे का भेद मिटाएंगे गूगल के यह मल्टी स्किन हैंडशेक इमोजी, जानें कब तक होंगे लॉन्च

हम पहले से ही रिक्वेस्ट फोल्डर में मैसेजेज को फ्लिटर कर रहे हैं- फेसबुक
Facebook ने हाल ही में हुए एक वर्कशॉप में कहा है, “हम पहले से ही रिक्वेस्ट फोल्डर में मैसेजेज को फ्लिटर कर रहे हैं। हम Messenger और Instagram पर एडल्ट टू माइनर मैसेजेज को प्रतिबंधित करने के लिए आवश्यक कदम उठा रहे हैं। पिछले साल, हमने मैसेज रिक्वेस्ट और मैसेजिंग सेटिंग्स में इमेजेज या लिंक को ब्लॉक करने जैसे कई सेफ्टी फीचर्स पेश किए थे।”

RAM का टेंशन छोड़िए! अब फोन खुद बढ़ाएगा अपनी RAM, Xiaomi ला रहा है यह नया फीचर

स्कैम्स से लोगों को सुरक्षित रखने के लिए कदम उठाए कंपनी
विशेषज्ञों ने Facebook को अपने प्रयासों को जारी रखने, स्कैम्स का मुकाबला करने और लोगों की जानकारी को सुरक्षित करने के लिए अधिक से अधिक काम करने के लिए कहा है। Facebook ने कहा है, “उन्होंने हमारे प्रोडक्ट्स के ह्यूमन राइट्स के प्रभाव पर विचार जारी रखने का आग्रह किया।

हमें सिक्योरिटी, प्राइवेसी और सिक्योरिटी में संतुलन खोजने की आवश्यकता है। मैसेंजर पॉलिसी के डायरेक्टर गेल केंट ने कहा, ”सुरक्षित माहौल बनाए रखने के लिए लोगों के मैसेजेज की प्राइवेसी और सिक्योरिटी को संतुलित करने की स्पष्ट आवश्यकता है।” लोग ऑनलाइन अपनी निजी जानकारी की सुरक्षा और उनके मैसेजेज की गोपनीयता के बारे में चिंतित हैं।

Samsung की एक गलती से सामने आई Galaxy S21 FE की पूरी डिटेल, देखें कितनी होगी कीमत

10 में से 7 अमेरिकियों ने कहा कि उनकी निजी जानकारी कम सुरक्षित
वर्ष 2019 में 10 में से 7 अमेरिकियों ने कहा कि उनकी निजी जानकारी 5 साल पहले की तुलना में कम सुरक्षित थी। कंपनी ने कहा है कि पिछले 4 वर्षों में, दुनिया भर के यूजर्स ने उन मैसेजिंग ऐप्स का इस्तेमाल किया है जो ज्यादा प्राइवेसी फीचर्स प्रदान करते हैं।



Source link

Previous Post
Next Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *